Thursday, July 25, 2013

महाकवि नाथूराम शंकर शर्मा 'शंकर' पर एक विशेष आलेख - जे0 एस0 चौहान

महाकवि  नाथूराम शंकर शर्मा 'शंकर'
(1859-1932)
      महाकवि  नाथूराम शंकर शर्मा 'शंकर' उत्तर पश्चिमी प्रांत (अब उत्तर प्रदेश), ब्रिटिश भारत, जिला अलीगढ़, के हरदुआगंज में सन् 1859 में पैदा हुए थे और स्थानीय प्राथमिक स्कूल में अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की थी.सन्1874 में जब वह मिडिल के छात्र थे , अंग्रेजी शैक्षिक इंस्पेक्टर ई0 टी0 कांस्टेबल ने स्कूल का निरीक्षण किया. कांस्टेबल ने आपकी प्रतिभा और ज्ञान के साथ प्रभावित होकर निरीक्षण पुस्तक में टिप्पणी की थी:  "Nathuram is an intelligent student, full of promise' ("नाथूराम वादा से भरा, एक बुद्धिमान छात्र है.")  
      उन्होंने एक आयुर्वेदिक चिकित्सक के रूप में और बाद में कानपुर में सिंचाई विभाग में काम किया. उनका काव्य ब्रज भाषा और खारी बोली की बोलियों में मुख्य रूप से रहा.
     आप प्रसिद्ध हिन्दी कवि हरिशंकर शर्मा के पिता थे.शंकर हिन्दी,संस्कृत,उर्दू और फारसी के अच्छे ज्ञाता थे और महावीर प्रसाद द्विवेदी की साहित्यिक पत्रिका सरस्वती के योगदानकर्ता थे.आप आर्य समाज आंदोलन से प्रभावित थे, वह प्रभावी रूप से इस प्रयोजन के लिए भाषा की अपनी महारत का इस्तेमाल किया करते थे जो एक समाज सुधारक करता है.
प्रमुख ग्रंथ
* काव्य ग्रंथ: 
* अनुराग रत्न, 
* शंकर सरोज,  
* गीतावली,  
* कविता कुंज,  
* कलित कलेवर
* शंकर सतसई
    शंकरजी की सन् 1932 में मृत्यु हो गई. 

अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें महाकवि  नाथूराम शंकर शर्मा 'शंकर'